franchise business, । बिज़नेस स्टोरी जाने हिन्दी मे - success new life

Breaking

success new life

I am very good article writer on my blog.my opinion is to expose the inner feelings of people. I go free from all the anger, laziness, hostility and jealousy. Success new life website are learn technical, motivational story for beginner student.all competition related books education for jobs.

Friday, November 6, 2020

franchise business, । बिज़नेस स्टोरी जाने हिन्दी मे

 World's best business opportunity in hindi

दोस्तो आज हम low cost invest करके कैसे businessman बने ? 
तो आइये एसी एक success story फिर से लेकर आये है आप इसे ध्यान लगकर जरुर पढ़े क्योकि आप इसे पुरा नही पढ़ेंगे तो अपने life मे success कैसे बनेंगे। इस content को पुरा बिना पढ़े skip मत कीजिए।

               बूट पोलिश वाले की success story

Bootpolish wale ki success story


चार मित्र राम, श्याम, सोहनलाल और मोहनलाल एक साथ बालक अवस्था से ही एक स्कूल मे शिक्षा ग्रहण कर रहे थे। मोहनलाल बहुत ही गरीब और होनहार लड़का था। वे बुट पोलिश कर पैसा जुटाता था और साथ मे अपनी पढाई भी करता था। बाकी की तीनो दोस्त उसकी इस काम पर बहुत मजाक उडाते थे। कुछ सालो बाद उसकी स्कूल की पढाई पूरी हो गयी। वे तीनो अपनी पढाई पूरी करने के बाद अपनी अगली प्लानिंग discuss करने के लिए एक बगीचे मे शाम के वक्त मिलने आये। मोहनलाल के तीनो दोस्त उसे कम अक्ल के समझते थे। तीनो मित्र उसके हार बात पर मजाक उडाते थे। त्क़्भी चारो दोस्त एक बगीचे मे meeting के समय अपनी-अपनी success के लिए planning कर रहे थे तो सभी ने कसम खाई की किसका किस्मत मे success मिलता है। राम,श्याम और सोहनलाल आपस मे बात करते है मोहनलाल को तो bootpolis का ही काम सही उसे तो बिज़नेस करना आता तो नही है एसा बोलकर उसका मजाक उड़ाने लगे। चारो ने आपस मे फैसला किया की हम चारो चार साल बाद इसी जगह पर मिलेंगे। तभी सभी business के काम मे आगे बढ़ने के लिए शहर की तरफ चल पड़े। एक साल बितने के बाद मोहनलाल के तीनो दोस्त अपने-अपने carriere मे आगे बढ़ते है। राम ने शहर मे garments की factory शुरु किया। श्याम ने शहर मे होटल खोला तथा सोहनलाल ने medical shop डाल है। लेकिन मोहनलाल अपने गाँव मे bootpolish का छोटा दुकान रेलवे स्टेशन के पास शुरु किया। वे अपनी तरक्की से खुश नही था। तभी मोहनलाल सोचता है "ये बूटपोलिश का काम तो बहुत अच्छा है" लेकिन गाँव मे मेरा यह धन्धा बढ़ेगा नही कुछ तो करना पडेगा।

Opportunity story in hindi

 वे अपने मामा के घर शहर मे आता है और वहा की आसमान छूति हूई ऊची-ऊची building को देखकर हैरान हो जाता है "अरे बाप रे! इतनी ऊची building ये लोग इतनी ऊचाई पर रहते होन्गे कैसे? मै तो गाँव मे घर के छत पर भी कभी कभी नही चढता हूँ"। मामा के मदद से मोहनलाल बूटपोलिश का दुकान एक rikshaw स्टैंड के पास एक छोटी सि दुकान लगता है। वहा बे थोडी-थोडी आमदनी शुरु कर लेता है लेकिन उस कमाई से वे खुश नही होते है। एक दिन मोहनलाल अपने मामा के साथ शहर घुमने जाता है। वे बड़ी-बड़ी complex, housing society देखकर अचरज मे पडता है। अगले दिन सुबह एक बड़े complex के बाहर खड़ा होता है और सुबह-सुबह काम पर निकलनेवाले लोगो का अवलोकन करता है। बहुत सारे लोग हरबड़ी मे complex से बहार निकलते और car मे बैठकर ऑफिस चले जाते। लेकिन उनके जुते बिना पोलिश की होती है। अगले दिन मोहनलाल उसी complex के बाहर अपना बूटपोलिश का दुकान खोलता है और आवज देकर ऑफिस के लिए निकले लिगो को ध्यान खिचने की कोशिश करता है। एक आदमी मोहनलाल से जुते पोलिशकरवाता है। वे इस काम से खुश होकर कहता है " wow very nice"। इन कुछ दिनो से मोहनलाल एक बात जरुर समझ जाता है की वे costomer तक पहुचेगा तो उनका बिज़नेस जरुर बढेगा । लोगो को अछि service जरुरत है।
Temples banner


 दुसरे दिन mohanlaal कुछ temples छपवाता है जिसमे bootpolish की home service के बारे मे जनकरी होती है। मोहनलाल वो सारे templex बाड़े complex मे newspaper के मध्यम से पहुचाता है। लोग उसका विज्ञापन पढ़ते है और खुश हो जाते है। templex मे दिये गये number पर call करके लोग अपने-अपने जुते पोलिश के लिए देते है। मोहनलाल की idea यिया बार काम करती है। आब उसे bootpolish के लिए काफी calls आना शुरु हो जात है और मोहनलाल उं लोगो के बूट पोलिश करके उनके घर तक पहुचाते है। धीरे-धीरे ये bootpolish at the doorstop की बात आस-पास के कॉलोनी और कॉमप्लेक्स मे पहुच जाते हैं और मोहनलाल का धन्धा एक बड़े business मे परिवर्तन हो जाता है। उसके यह काम और तरक्क्ती को देखकर उसके मामा बहुत खुश होते है। चार साल बितने के बाद वे चारो दोस्त फिर से मिलनेवाले होते है। ठीक समय को 3:00 PM के बाद उसी बगीचे मे तीनो दोस्त मिलते है और अपनी-अपनी success story shere करते है। तभी उन तीनो दोस्तो को मोहनलाल की याद आता है। और आपस मे मोहनलाल के बारे बात कर हसी उडाने लगे। फिर कुछ डर बाद मोहनलाल अपनी कीमती कार से उसके पास आता है। वे तीनो मोहनलाल की इस तरक्की को देखकर चौक जाता है और मोहनलाल से माफी मांगने लगता है। लेकिन मोहनलाल अपने दोस्तो मिलकर बहुत खुश होते है और अपनी बीती हूई बात shere करते है।

बेस्ट स्टोरी , best story in hindi


दोस्तो कैस अलगा हमारी यह content पढकर। अगर आपको यह स्टोरी अच्छी लगी है तो इसे shere करना ना भुले shere जरुर कीजिए। 

No comments:

Post a Comment

Let me now flow this blog

Translate